WATCH

मंगलवार, 13 दिसंबर 2011

Roshi: जिन्दगी का फलसफा

Roshi: जिन्दगी का फलसफा: सब कहते हैं की बीति बातें बिसार दो ,और आगे की सुध लो पर भूलना क्या होता है इतना आसा ? जिनको था दिल और दिमाग ने इतना चाहा एक ही झटके में ...

22 टिप्‍पणियां:

***Punam*** ने कहा…

bahut mushkil hai....
maaf kar sakte hain lekin bhulana sambhav hai kya...???

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आसान नहीं होता ... सब कहने की बातें हैं ...

Kunwar Kusumesh ने कहा…

not so easy to forget.

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

भूलाना आसान नहीं

Gyan Darpan
Matrimonial Site

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

सच कहा....
सादर...

kumar zahid ने कहा…

dunya mein hum aayein hai to SAHNA hi padega-
jeevan hai agar zahar to peena hi padega.


isiliye kahte hain shayed BEETI TAHI BISAR DE...

ZEAL ने कहा…

जिंदगी एक से एक अनुभव कराती है! कभी कभी सारे सद्प्रयास भी विफल हो जाते हैं! दुःख तो होता है लेकिन जीना पड़ता है इसी के साथ...

प्रेम सरोवर ने कहा…

आपके पोस्ट पर आना सार्थक होता है । मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

रचना दीक्षित ने कहा…

जिंदगी की राहें इतनी आसां भी नहीं.

Maheshwari kaneri ने कहा…

कहना जितना आसान है करना उतना मुश्किल..

dheerendra ने कहा…

जिंदगी का यही फलसफा है....

मेरी नई रचना के लिए "काव्यान्जलि" मे click करे

dheerendra ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति बेहतरीन रचना,.....
नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....

मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

Rakesh Kumar ने कहा…

नववर्ष की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.
सुन्दर लेखन से ब्लॉग जगत को सदा जगमगाएं.

समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,Roshiजी.

Vaneet Nagpal ने कहा…

"टिप्स हिंदी में" ब्लॉग की तरफ से आपको नए साल के आगमन पर शुभ कामनाएं |

टिप्स हिंदी में

डॉ.मीनाक्षी स्वामी ने कहा…

सच है भूलना आसान नहीं।
नव वर्ष मंगलमय हो।

dheerendra ने कहा…

जिंदगी ज़िंदा दिली का नाम है, बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर रचना......
welcome to new post--जिन्दगीं--

somali ने कहा…

sach kaha ....bhulna asan nahin hota

Rakesh Kumar ने कहा…

Where are you Roshi ji?

हनुमान जी याद कर रहे हैं आपको.

मेरी पोस्ट 'हनुमान लीला भाग-२'
पर आपका स्वागत है.

NISHA MAHARANA ने कहा…

bahut mushkil hai bite ko bhulana.

Patali-The-Village ने कहा…

सच है भूलना आसान नहीं। धन्यवाद।

dheerendra ने कहा…

जिन्हें हम याद आते है उन्हें हम भूलना मुश्किल,
ये सिर्फ कहने की बात है,...
सुंदर पोस्ट,....

Rakesh Kumar ने कहा…

जिस बात पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है,वह
स्मरण में रहने लगती है,और अन्य बाते उस
समय के लिए विस्मृत सी हो जाती हैं.

आप मेरे ब्लॉग पर आयीं ,इसके लिए बहुत बहुत आभार आपका.

आशा करता हूँ अब आपकी तबियत में सुधार होगा,Roshi जी.

प्रभु से प्रार्थना करता हूँ कि आप तन मन से सैदेव स्वस्थ रहें.मकर सक्रांति व लोहड़ी की बधाई और शुभकामनाएँ.