WATCH

शनिवार, 17 मार्च 2012

Roshi: होली

Roshi: होली: होली आयी,फिजाओं में सप्तरंग और बागों में भी है कोयल चेह्काई ब्रिध -बालक ,नर -नारी और युवा तन -मन सभी पर है मस्ती छायी रंग ,गुलाल इतर की खुसब...

5 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

बहुत सुंदर भाव,बेहतरीन रचना,......

MY RESENT POST... फुहार....: रिश्वत लिए वगैर....
MY RESENT POST ...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

होली की शुभकामनाएँ!

amrendra "amar" ने कहा…

बेहतरीन सटीक रचना,....

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

गहन अनुभूतियों की सुन्दर अभिव्यक्ति ... हार्दिक बधाई.

रविकर ने कहा…

शुभकामनाएँ!