WATCH

बुधवार, 28 मार्च 2012

Roshi: गम

Roshi: गम: ऐसा क्यूं होता है की किसी के हिस्से ढेरों गम ? ज़माने  के ढेरो जुल्म और अनगिनत सितम क्यों वो दे देता है सारी काएनात की रुसवाई किसी एक को ...

3 टिप्‍पणियां:

DINESH PAREEK ने कहा…

अति सुन्दर बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति...
सार्थक
दिनेश पारीक
मेरी नई रचना
कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: माँ की वजह से ही है आपका वजूद:
http://vangaydinesh.blogspot.com/2012/03/blog-post_15.html?spref=bl

भावना ने कहा…

sach hame bhi kabhi kabhi uljhan hone lagati hai....kyun kuchh nek insaano itane dukh bhogane padate hai.aur koi dusht aatama maje se sukh bhogati rahti hai....koi kahata hai ki pichhale janam k bakaya hoga ...par kaun janata hai pichhala janam hota bi hai ya nahin isliye ye bhi to galat hai ...sach ishwar ke khel samajh se pare hai

dheerendra ने कहा…

वाह ! ! ! ! ! बहुत खूब सुंदर रचना,बेहतरीन भाव प्रस्तुति,....

MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,
MY RECENT POST ...फुहार....: बस! काम इतना करें....