WATCH

मंगलवार, 13 दिसंबर 2011

जिन्दगी का फलसफा


सब कहते हैं की बीति बातें बिसार दो ,और आगे की सुध लो
पर भूलना क्या होता है इतना आसा ?
जिनको था दिल और दिमाग ने इतना चाहा
एक ही झटके में टूटा पूरा का पूरा भरम का जाल
खुल गयी आंखें ,मिला जिन्दगी को सबक .और नए ख्याल
पर किससे  कहें ? क्या कहें ,बचा न था कुछ भी बाकी
स्वयंम सिर्फ स्वंयं पर ही करो भरोसा यह ही है जिन्दगी का फलसफा
माँ -बाप तो हमेशा ही रहे थे सुनाते जिन्दगी के खाए धोखे
पर हम मूर्ख समझते रहे की घुमा देंगे जादू की छड़ी
बना देंगे रिश्तों ,जिन्दगी सब को आसां
पर अब पता चला की हो ही गए थे हम फेल
हमारी किस्मत में न था समझ पाना इन रिश्तों का फलसफा
कई लोग तो बिना कुछ करे धरे भी पा जाते हैं सभी का प्यार
पर हम सब कुछ कर के भी ना पा सके मर्जी से जीने का अधिकार

16 टिप्‍पणियां:

संध्या शर्मा ने कहा…

बहुत मुश्किल है समझ पाना जिंदगी का फलसफा... सुन्दर रचना

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिये, यह मुनासिब नहीं आदमी के लिये..

Sunil Kumar ने कहा…

जिन्दगी कैसी है पहेली .......

amrendra "amar" ने कहा…

सुंदर रचना।
बेहतरीन प्रस्तुति!

sangita ने कहा…

सारगर्भित उदगार हैं आपके |बीती बिसार देना सरल नहीं है ,जिन्दगी हर कदम पर एक इम्तिहान लेती है| वक्त बीत टी जाता है पर गुजरता नहीं है सदा साथ रहता है |

vandana ने कहा…

जिंदगी वाकई एक पहेली है

ASHOK BIRLA ने कहा…

sundar hai ...bhula pana mumkin hi hota har baat ko to kya majal ashu aajate kabhi hamari bhi ankhon !!

aun anubhavi aankhon ne dekha tha dur tak tabhi to sunate the kahaniya !!!

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

sundar rachana roshi ji ....abhar.

भावना ने कहा…

पर हम सब कुछ कर के भी ना पा सके मर्जी से जीने का अधिकार..is pankti ne sab saar kah diya ...bahut achha likhati hain aap...likhati rahiyega

कौशल किशोर ने कहा…

सुन्दर भाव ........बिलकुल सही कहा जिन्दगी को समझना जटिल काम है पल पल में पलट जाती है ये......अच्छी पंक्तियाँ ....
बधाई....मैं आपका १०० वाँ फोलोवर...
मेरा ब्लॉग पढने और जुड़ने के लिए क्लिक करें.
http://dilkikashmakash.blogspot.com/

veerubhai ने कहा…

चीज़ों को पकड़ के कैसे बैठिएगा जीवन का समय का प्रवाह आगे की ओर है पीछे रुका हुआ पानी है .जड़ता है चेतन्य आगे है .
सुन्दर अभिव्यक्ति भाव की अनुभाव की .

Rajput ने कहा…

ये जीवन है ... इस जीवन का यही है रंग रूप , थोड़ी खुशियाँ...थोड़े गम है...
बहुत खुबसूरत , बधाई

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुंदर रचना।...बेहतरीन प्रस्तुति!

संजीव ने कहा…

फलसफा ..... ही है सब, सही कहा आपने.

Dimple Maheshwari ने कहा…

hmm....bhul pana kaash aasaan hota.

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

bahut sundar Roshi ji ...... vakai jindgi kis mod pr le jayegi samajhana mushkil hai ......sadar abhar..