WATCH

गुरुवार, 20 दिसंबर 2012

प्यारी बिटिया

सावन की बद्री में
झूलो की बद्री में
तुम याद बहुत आओगी
                    बारिश की फुहारों में
                     तृप्त करती  बौछरो में
                     तुम याद बहुत आओगी
मेहंदी के बूंदों में
रंग बिरंगे सूटों में
तुम याद बहुत आओगी
                    रंग बिरंगी चुनर में
                    लहंगे की घुमर में        
                    याद बहुत आओगी
मेघो की घन घन में
पायल की छन छन में
तुम याद बहुत आओगी
                            चमकती बिंदिया से
                             छनकति पायलिया में
                            तुम याद बहुत आओगी
                                              

शुक्रवार, 30 नवंबर 2012

बरसता सावन

टिप -टिप गिरती बूंदों की आवाज़
कर रही थी यूँ रात्रि की निस्तब्धता भंग
दूर कही कोई छेड़ रहा हो जलतरंग 
झींगुरों की सरसराहट भी बना देती है अद्भुत समां 
कोई है मदमस्त सावन की रूमानियत में 
किसी का होश है हुआ इस सावन में गुमां 
नन्हे बालक ले रहे पूरा आनंद उस घुमड़ते सावन का 
अब कहाँ रहे वो भीगते प्रेमी युगल इस मद मस्त सावन में
हो गयी हैं अब यह किताबी बातें सिर्फ इस जहाँ में 
बदल लिया है अब शायद प्रकृति ने भी अपना स्वरुप 
ना वो रहे काले घुमड़ते ,लरजते ,बरसते मेघ 
न रहा वो सावन में भीगने ,लुत्फ़ उठाने का आनंद  

नव बर्ष

यूँ  तो नववर्ष मानते आये हैं हम हर बार,
हर साल नया शहर, नया परिवेश और नए रूप धारण करते हैं हर बार,
खूब धूम धड़ाका, आतिश बाजी, कॉकटेल, पार्टियाँ करते हैं हर साल ,
नए सपने नए ख्वाब, नयी खुशियों से लवरेज रहती ज़िन्दगी हर बार,
पर क्यों न मनाये नव वर्ष एक नव नूतन रूप में इस बार ,
अभी तक तो थी उलझी रही ज़िन्दगी सिर्फ में , मेरा परिवार , मेरे बच्चे और मेरे घर में ,
कभी भी  न सोचा  देश, समाज और नगर के बारे में,
अब जागो, तनिक सोचो जिस देश समाज से हो तुम जाते जाने और पहचाने,
उसकी कभी भी न की महसूस, ज़रा भी जिमेदारी हमने,
तनिक न सोचा अवला, दीन, दुखी और अनाथों के बारे में
"जब जागो तभी सवेरा " देर अभी भी न हुई है जागने में ,
आज ही ले लो कोई प्रण, कसम, इस नव वर्ष पर अभी से
एक भी दुखी पर की गयी दया हर लेगा सारा चिंतन ज़िन्दगी से ,
नव उर्जा, प्रफुल्लित मन भर देगा  खुशियों  से सारा घर आँगन     



शुक्रवार, 21 सितंबर 2012

झूट और फरेब

कितने झूठ ,कितने फरेब  कोई कब तक कर सकता है ?
शायद उम्र भर ......और अब उसको भी लगने लगा है 
की शायद वो है ही गुनाहगार  इन सब हालातों की वो है 
मुजरिम ,या शायद वक़्त खेल रहा है कोई खेल उसके साथ 
पर जब कोई बात बार -बार दोहराइ जाती है लगातार 
तब पत्थर पर भी पड़ जाती है दरार ,.........
स्याह को सफ़ेद और सफ़ेद को स्याह तो दिखा ही देती है यह दुनिया 
जब राम को दिखाया दुनिया ने आइना सीता के दुश्चरित्र का 
तो वो भी ना देख पाए सीता के सतीत्व को ,उसके प्रताप को 
   कब तक ? आखिर कब तक चलता रहेगा यह अत्याचार ?????????

बुधवार, 15 अगस्त 2012

Roshi: आज़ादी

Roshi: आज़ादी: आज़ादी के इतने बरस गए बीत और हुए क्या हम सच में आज़ाद यह ना सोचा तनिक भी और ना ही हुए हम परेशां  क्यूंकि जन्मते ही हम जकड़े रहे ताउम्र ...

मंगलवार, 14 अगस्त 2012

Roshi: आज़ादी

Roshi: आज़ादी: आज़ादी के इतने बरस गए बीत और हुए क्या हम सच में आज़ाद यह ना सोचा तनिक भी और ना ही हुए हम परेशां  क्यूंकि जन्मते ही हम जकड़े रहे ताउम्र ...

आज़ादी

आज़ादी के इतने बरस गए बीत और हुए क्या हम सच में आज़ाद
यह ना सोचा तनिक भी और ना ही हुए हम परेशां 
क्यूंकि जन्मते ही हम जकड़े रहे ताउम्र भाँति -भाँति की जंजीरों में 
और उन बेड़ियों का बंधन तो हमको लगने लगा अपना 
ना मुह से निकलती कोई आह ,,,ना लगता कोई बंधन 
भ्रष्टाचार ,आतंक ,हैवानियत ,जुल्म सहना तो अब बन गयी है हमारी गिज़ा 
न कोई खिलाफत ना ही कोई आवाज़ सब कुछ दब गयी है इस आत्मा में
कब तक ?आखिर कब तक हम सहेंगे यह अत्याचार और देंगे सब कुछ यह विरासत में
वक़्त रहते अब क्यूँ नहीं आता कोई कृष्ण अपना सुदर्शन चक्र लेकर
सब ना सही लेकिन करता कुछ तो पापियौं का अंत इस समाज से
ना हम सोच रहे हैं उन नौनिहालों की जो कल गिरेंगे इस से भी ज्यादा गर्त में
पूछा आज स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर कुछ बालको से बताने को कुछ शहीदों के नाम
बता ना सके वे 4 भी सेनानियौं के नाम सिर्फ एक गाँधी को छोड़कर किसी दूजे के भी
शर्म से झुख गया सर ,जुवां भी हो गयी स्थिर ना बता सका कोई बालक देश भक्ति -गान
बताने को सब तत्पर कटरीना कौन और कौन सलमान और शहरुख्खन
ना ही पता हमारा कौन सा है राष्ट्रीय खेल और कौन है रचयिता हमारे राष्ट्रीय गान का
अभी भी ना चेते तो हो जाएगी बहुत देर और तब ना भेद पायेगा कोई अभिमन्यु इस पाप का चक्रव्यूह
अब तो सुन लो पुकार दीना नाथ ,दीनबंधु और घुमा दो कोई जादू की छड़ी
कुछ ढीले हो अब हमारे बंधन और सीखें हम खुल के सांस लेना
नया परिवेश ,नयी स्वच्छ आत्मा ,नयी दुनिया बसा ले हम


मंगलवार, 31 जुलाई 2012

सावन की मस्ती

कब आया सावन ,कब बीता सावन जरा भी ना हुआ इसका गुमां
कहीं भी ना दिखी नवयौवना बढाती झूले की पींगे ,गाती कजरी बनती अद्भुत समां 
बरसते ,लरजते कारे -कारे बदरा भी जैसे भुला ही बैठे मदमस्त आसमां 
दीखे ना कोई प्रेमी युगल बतियाते ,भीगते इस मधुर सावन में 
सब कुछ हो गयी बिसरी बातें ,सावन रह गया कवियौं की कल्पना में 
हरियाला सावन था सिमट गया बस कुछ पन्नो में और रह गया था अतीत की कथाओं में 
अब न सुनाई पड़ती कजरी ,ना सावन के गीत ,ना सुनती पपीहे की आर्तनाद 
क्यूंकि अब हमने ना बचाए पेड़ -पौधे ,ना बाग़, ना बची वो हरितमा 
बना दिया है कंक्रीट का जंगल चहुँ ओर  व्यथित और परेशा नर -नारी  
ना दिखते छप -छप करते बालक ना सावन का आनंद लेते नर -नारी 

बुधवार, 25 जुलाई 2012

Roshi: आइना

Roshi: आइना: कितने झूठ ,कितने फरेब  कोई कब तक कर सकता है ? शायद उम्र भर ......और अब उसको भी लगने लगा है  की शायद वो है ही गुनेह्गर इन सब हालातों की व...

आइना

कितने झूठ ,कितने फरेब  कोई कब तक कर सकता है ?
शायद उम्र भर ......और अब उसको भी लगने लगा है 
की शायद वो है ही गुनेह्गर इन सब हालातों की वो है 
मुजरिम ,या शायद वक़्त खेल रहा है कोई खेल उसके साथ 
पर जब कोई बात बार -बार दोहराइ जाती है लगातार 
तब पत्थर पर भी पड़ जाती है दरार ,.........
स्याह को सफ़ेद और सफ़ेद को स्याह तो दिखा ही देती है यह दुनिया 
जब राम को दिखाया दुनिया ने आइना सीता के दुश्चरित का 
तो वो भी ना देख पाए सीता के सतीत्व को ,उसके प्रताप को 
कुब तक ? आखिर कब तक चलता रहेगा यह अत्याचार ?????????

























































































सोमवार, 23 जुलाई 2012

Roshi: दर्दे- दिल

Roshi: दर्दे- दिल: भीतर का दावानल है ,बांध तोड़ने को व्याकुल पर बाह्य जगत का यह असहज व्योम रोकता है हर पल  क्यूंकि सहेजने में है वो अक्षम उस निर्लज्ज लावे...

मेरे जिगर के टुकड़े

बच्चे कितनी जल्दी बड़े हो जाते हैं यह आज समझ आया
जब हमारे बच्चे ने हमको नेतिकता का पाठ पड़ाया 
वो सारी बातें जो हम थे रहे सिखाते उसको जिन्दगी भर 
एक पल में ही उसने उनको अमल में लाकर कर दिखाया 
फख्र है हमको तुम परअब जाकर महसूस हुआ बच्चों  
हमने यूँ ही नहीं अपना जीवन व्यर्थ है गंवाया 
  

रविवार, 22 जुलाई 2012

तीज का मनोहारी उत्सव ,

तीज का मनोहारी उत्सव ,भर देता है हर युवती के मन में कुछ अनूठी उमंग
साजन के प्यार में खिल उठता है उसका अंग और प्रत्यंग 
 बरसता सावन जैसे छेड़ देता है काया में उसकी सरस मृदंग 
सावन के झूले बड़ा देते हैं ह्रदय की उठती गिरती सांसो की सरगम 
यह सतरंगी त्यौहार है ही हमारे देश की अद्भुत रीति -रिवाजों की शान 
अल्हड ,बूढी और जवान सभी मनाएं इसको भिन्न -भिन्न रूपों में सजकर 
धानी लहरिया ,की ओढ़ चुनर सजे गोरी पहन हाथ भर भर चूड़ी और पाँव सजे महावर 

सोमवार, 9 जुलाई 2012

Roshi: बदलती वयार

Roshi: बदलती वयार: बिसरा दिया है मेघों ने भी सावन में बरसना  सावन के झूले भी अमुआ की डार पर ना दिखते हैं अब  बच्चियो की मस्ती ,मेहँदी के पत्तों पर आपसी खटप...

बदलती वयार

बिसरा दिया है मेघों ने भी सावन में बरसना
सावन के झूले भी अमुआ की डार पर ना दिखते हैं अब 
बच्चियो की मस्ती ,मेहँदी के पत्तों पर आपसी खटपट 
सब हो गयी हैं शायद गुजरे ज़माने की बातें  अब 
ना कानों में पड़ती है किसी भी गलियारे से चूडियो की खनखनाहट 
वो मेहँदी से रची हथेलियाँ अब ना दिखती हैं गावं ,कस्बो में 
शायद बढता स्कुल ,आफिस का दबाब दबा रहा है पुरानी परम्पराएं 
सुहागिनों का नैहर भी छूट रहा है त्यौहार पर जाने से 
परंपरा अनुसार तीज पर बाबुल घर लाये और भाई राखी बंधवा कर ससुराल पहुचाये 
 बदल गए हैं सब मायने वक़्त ,सहूलियत के अनुसार त्यौहार मनाने के 
अब कौनसा नया परिवेश बदल देगा सारे के सारे ख़ुशियों के पैमाने 

रविवार, 8 जुलाई 2012

वैदेही की व्यथा

आज दिव्या शुक्ल जी का लेख देखा उसी लेख पर वैदेही के लिए कुछ भाव .............
 वैदेही का तो हर युग मैं जनम ही हुआ है नारी जीवन का संताप भोगने वास्ते 
कभी जन्मी वो जनकसुता बनकर और पाए घोर कष्ट भार्या राम की बनकर 
जन्मी थी वो राजकुल में और व्याही भी गयी रघुकुल में सहचरी वो राम की बनकर 
पांचाली भी जन्मी थी राजकुल में और पाया था अर्जुन सा राजकुमार स्वयंवर में उसने 
पर वह री किस्मत ? विधि की लेखनी ने उल्टा दिया सारा का सारा किस्मत का लेखा -जोखा 
व्याही एक पति को ,और भोग्या बनी पांच पतियौं कीकुदरत का खेल निराला 
कितने ही किस्से ,कहानी भरी पड़ी है इतिहास में हमारे हर युग की वैदेही की 
रूप अनेकों पर वैदेही तो हर युग ,काल में रही है सिर्फ भोग्या ,शापित और अबला 
जब ,जैसे,जिस भी रूप में पाया है दारूण कस्ट उसने सदेव वैदेही रूप  में जनम्कर 

शनिवार, 7 जुलाई 2012

जिन्दगी की अजब कहानी

किस्मत से बढकर कुछ नहीं है मिलता देख लिया है जिन्दगी की आपा -धापी में
सब कुछ था अजमाया हमने बस समझ ये ही आया इस जिन्दगी की दौड़ा -भागी में 
सारी अक्ल ,सारी होशयारी बस रह जाती है धरी की धरी इस जिंदगानी में 
बड़े से बड़े बन्दों को देखा है मिलते खाक और मिटटी में इसी जिन्दगी में 
जो  लिखा कर आये है तकदीर अपनी वो ही पाते हैं सब सुख जिन्दगी में 
अक्सर देखा है बहुत से कर्मयोगी कर्म करते है पूरा इस जिंदगी में 
पर कुछ भी ना कर पाते हैं हासिल सारी की सारी जिंदगी में 
इस को भाग्य का लिखा कहा जाये या कहें किस्मत की बुलंदी 
बिना कुछ करे भी वो सब कुछ पा जाते हैं जिन्दगी में 
  

मंगलवार, 3 जुलाई 2012

Roshi: जीवन

Roshi: जीवन: जिन्दगी का पहिया इतनी तेज़ी से रहा था भाग  हम सोच रहे थे कि हमने तो इसको बाँध रखा है मुटठी में  पर वो तो खिसक रहा था मुट्ठी में बंद रेत ...

जीवन

जिन्दगी का पहिया इतनी तेज़ी से रहा था भाग
हम सोच रहे थे कि हमने तो इसको बाँध रखा है मुटठी में 
पर वो तो खिसक रहा था मुट्ठी में बंद रेत की मानिद 
कब हो गया हाथ खाली हमको पता ही न चला 
और समेट भी ना सके एक भी कण उस रेत का 
जो समय जाता है गुजर लाख चाहो तो भी न पा सकोगे ऊम्र भर 
क्योँ नहीं समझ पाया मानुस वक़्त रहते यह गणित
बस फिर बटोरता रहता है रेत के टुकडो को जीवन भर 

सोमवार, 2 जुलाई 2012

तूफा और साहिल

 कुछ तूफा ,बेचैन हवाएं रुख ही मोड़ देते है साहिल का
जो कश्ती थी बह रही ख़ामोशी से दिशा ही बदल देते हैं 
माझी जो समझा था बस अब सामने ही है बस किनारा 
एक पल मैं ही बदल जाती है उसकी और नैया की तकदीर 
कब और किस किनारे लगे यह ही उसकी तकदीर 

शनिवार, 30 जून 2012

सावन की फुहार

प्यासी धरती ,सूखे अधर ,व्याकुल तन -मन
कातर नैन किसान के है तकते आसमान 
मरणासन्न पपीहा नभ को तके आये न उसको चैन 
अतृप्त चक्षु मांगे इश्वर से बरसा दो जल दिन- रैन 
पपड़ाए अधर और बोझिल काया कहीं न पाए चैन 
धरा ,नर -नारी ,पशु -पक्षी सभी हैं आसन्न और बैचैन 
अब बरसा भी दो नेह अमृत सा और सबकी रूह पाएं चैन 

मंगलवार, 26 जून 2012

अनचाहे मेहमान

आजकल जिन्दगी में कुछ अनचाहे मेहमान आ बैठे हैं
ना कोई न्यौता ,ना कोई सन्देश बस आ बैठे हैं 
क्रोध ,जलन ,ईर्ष्या ,जैसे यह अनचाहे हैं मेहमान 
रोज इनको चाहते हैं जिन्दगी से अपनी भगाना 
पर यह पाहून हैं ऐसे ढीठ कि जिन्दगी में गए हैं रच -बस 
ना होती है इनकी कोई पूछ फिर भी ना जाना चाहते हैं 
रोज अपने अस्तित्व का एहसास भी हरदम कराते हैं 
कैसे इन मेहमानों को करू में विदा बताएं आप सब मुझको ?????????

शुक्रवार, 25 मई 2012

अतीत

कभी कभी अतीत चिपक जाता है कुछ यु जैसे हो परछाइ
शरीर  से घुलमिल जाता है यु जैसे हो पेटजाई 
 चाहकर भी ना पीछा छुडा सकते हैं हम उससे 
ढोना ही पड़ता है उसको जीवन के अंत तक 
तकलीफ ,देता है यह आकिर तक हरजाई 

गुरुवार, 24 मई 2012

भूले बिसरे दिन

बिसर गए वो दिन जब सब भाई बहिन होते थे इकट्ठा
सुबह से होता था जी भरकर उधम ,और हंसीठठठा
ना कोई था समर कैंमप ,ना था होम वर्क का टनटा 
दिन भर थी बस हंसी -ठिठोली और था बस मस्ती का फनडा 
कहाँ गए वो दिन ,वो खिलखिलाहटों से चहकते घर आँगन 
सब कुछ भुला दिया इस जीवन की आपाधापी ने दिन -प्रति दिन 
काश हम लौटा लौटा  पाते   न न्हे नौनिहालो का मासूम बचपन 
जहाँ घुमते वो निर्द्वंद ,लेते भरपूर छुट्टी का वो भरपूर आनंद 
बर्फ का गोला .चुस्की और कच्ची कैरी के चटकारे बड़ा देते जीवन का रंग
कभी जाते थे छत पर ,और सोते थे खुली हवा में लेकर मच्छर दानी  का आनंद 
पर अब तो हो गयी सब भूली -बिसरी बातें  और ना रहे वो आनंद 

बुधवार, 23 मई 2012

देखा आज एक पूर्ण पल्लवित पलाश का एक वृक्ष अपने पूर...

देखा आज एक पूर्ण पल्लवित पलाश का एक वृक्ष
अपने पूरे यौवन ,पूरे शबाब के साथ खड़ा था वो 
अपनी पूर्ण विकसित शाखों को यूँ फेलाए  था वो 
जैसे लेने को आतुर हो प्रेयसी को अपनी बाँहों में 
तन पर लपेटे था वो पीत वसन की चादर चहुँ ओर 
रिझा रहा था वो अपने पीले पुष्प गिराकर अपनी प्रेयसी को 
हर कोशिश थी उसकी भरसक प्रेमिका को लुभाने की 
कभी देखा है ऐसा निशब्द प्रेमालाप किसी भी प्रेमी का 
जो बिन बोले ही सब कुछ कह देता है पूर्न मौन रहकर  

शनिवार, 12 मई 2012

ना कोई चिट्ठी .ना कोई संदेस पंहुचा सकते हैं हम वंह...

ना कोई चिट्ठी .ना कोई संदेस पंहुचा सकते हैं हम वंहा
चली गयी हो माँ आप हम को छोड़ कर जहाँ 
रोज़ रोता है दिल ,और तिल तिल-तिल मरते हैं हम यहाँ 
सोचा भी न था कभी ऐसा भी होगा हमारे साथ यहाँ 
जिंदगी में जैसे एक झंझावत आया और फैला सब यहाँ -वहां 
साडी दुनिया मना रही है मात्-दिवस हमारी नज़रे हैं सिर्फ वहां 
जहाँ आप जा बैठी हैं,क्यूँ नहीं हमसे मिल सकती हैं यहाँ ??????????????? 

गुरुवार, 10 मई 2012

जिन्दगी दिखाती है रोज़ नए फलसफे घर की तरह रोज इसको...

जिन्दगी दिखाती है रोज़ नए फलसफे
घर की तरह रोज इसको साफ़ -सुथरा रखने की कोशिश करते हैं 
पर ना जाने कहाँ से गर्द आ जाती है इसको गन्दा करने 
रिश्तों पर पड़ी धुल झारते हैं बड़ी मुस्किल से इसको चमकाते हैं 
दिन प्रतिदिन ऐसा करते थक जाते है ,चूर हो जाते है  
पर इस रोज़ आने वाली धुल का ना कोई उपाय सोच पाते है 

कन्या भ्रूण हत्या है आजकल सबसे सनसनीखेज खबर पर जो ...

कन्या भ्रूण हत्या है आजकल सबसे सनसनीखेज खबर
पर जो रोज तिल -तिल मर रही उनकी न किसी को खबर 
लगता है विधाता ने उस जात की किस्मत में ही लिखा है मरना 
कुछ को पेट में ,कुछ को है बाहर आकर जलना और मरना 
होती हैं कुछ जो जीती हैं जिन्दगी पूरे मान और सम्मान से 
आमिर ने भी कन्या भ्रूण की तो बात की पूरी शान से 
पर रीना को वो भी छोड़ बैठे है जीने को पूरे अपमान से 

रविवार, 8 अप्रैल 2012

मन का कोना


संगीत है .स्वर बिखरे हैं ,कोलाहल है पर मन का कोना खाली है
शहनाई है ,बाजा है ,बारात है ,बाराती है पर मन का कोना खाली है
नवबालको का रुदन है .उनका क्रंदन है पर मन का कोना खाली है
बाल अठखेलियाँ  हैं ,,मस्ती है हठ है पर मन का कोना खाली है
छायाहै सर्वत्र उल्लास , घर करता पाहुनों का इंतजार पर मन का कोना खाली है
यह कैसी लीला है उस प्रभु की ?कि मन का कोना शायद विधाता भरना भूल जाता है
हम जब हुई थी पैदा तो बताया कि बड़े होने पर खाव्ब होंगे पूरे
बड़े होने पर समझाया शादी के बाद ही बेटियां सपने पूरे करती हैं
विवाह के बाद पता चला माँ बनने के बाद ही नारी होती है सम्पूर्ण
 तो न तो बचपन में मन का कोना भर पाया न ही युवावस्था में
यह ही है हकीकत हम सभी नारी जात की  

बुधवार, 4 अप्रैल 2012

जीने की आशा


जान अपनी कितनी होती है कीमती देखा कल निज आँखों से
पकड़ा था लोगो ने एक चोर को रंगे हाथ अपने हाथों से
कितना मार-मार कर किया था लहूलुहान लातों और घूंसों से
 मरंतुल ही लगभग हो चुका था वो इन्सान अपनी सांसो से
उस भीड़ में हर इन्सान ने लगभग हाथ साफ़ कर ही लिए थे
गूँज उठा तभी पुलिस van का सायरन कही दूर से
जरा सबकी नज़र हटी .और हो गयी पकड़ ढीली उस चोर से
उस मुर्दा शरीर में जान पड़ी इतनी तेज़ी और जोर से
वो भागा इतना सरपट बचने को उस खतरनाक भीड़ से
क्या जिन्दगी  जीने का जज्बा बना देता है इतना मज़बूत अंदर से
सुना ही था ,पड़ा था किताबो में पर देखा आज आँखों से  

मंगलवार, 3 अप्रैल 2012

टूटते रिश्ते


जीवन के है अद्भुत रूप और विचित्र रंग
आज किसी का साथ और कल दुसरे का संग
ना है रत्ती भर उनको साथ छोड़ने का गम
बरसों की दोस्ती बस यूं ही भुला दी पाने को किसी और का संग
वो सारे लम्हे जो थे बांटे साथ बैठ कर एक संग
एक पल में ही उड़ा दी सारी धज्जियाँ रूई की मानिद
ना रखे कुछ भी अपने पास मीठे एहसासों का संग  

बुधवार, 28 मार्च 2012

Roshi: गम

Roshi: गम: ऐसा क्यूं होता है की किसी के हिस्से ढेरों गम ? ज़माने  के ढेरो जुल्म और अनगिनत सितम क्यों वो दे देता है सारी काएनात की रुसवाई किसी एक को ...

गम


ऐसा क्यूं होता है की किसी के हिस्से ढेरों गम ?
ज़माने  के ढेरो जुल्म और अनगिनत सितम
क्यों वो दे देता है सारी काएनात की रुसवाई किसी एक को
जरा भी ना सोचता है अपने नेक बन्दे का दर्देगम  

रविवार, 25 मार्च 2012

Roshi: पाषाण हिरदय

Roshi: पाषाण हिरदय: सब कहते हैं कि इंसान वक़्त के साथ बदल जाया करते हैं  समाज ,तजुर्बे ,उम्र ,रिश्ते आखिर बदल ही देते हैं कुछ इंसानों को  पर जो पाषाण- ह्रदय ही ...

पाषाण हिरदय

सब कहते हैं कि इंसान वक़्त के साथ बदल जाया करते हैं
समाज ,तजुर्बे ,उम्र ,रिश्ते आखिर बदल ही देते हैं कुछ इंसानों को 
पर जो पाषाण- ह्रदय ही जन्मे थे इस जग में कुछ भीं ना कर पाते हैं 
वक़्त,हालत चाहे दे उनको कितनी भी चोटे वे जस के तस रह जाते हैं 
क्या देखा है कभी किसी शिला को टूटते समंदर कि लहरों से ??
नहीं ना ,,,ना बदला दुर्योधन और  ना ही बदल सका अपने को पापी कंस
ना ही बदली कुटिल चाले शकुनी मामा की और ना ही बदल पाया दुष्ट रावन 
यह या तो नियति या फिर प्रवृति का ही होता है खेल 
पहले भी सबने की थी  पत्थरों से दरिया बहाने की नाकाम कोशिश  
पर ना तब ही कंस बदला और ना ही वो सब बदले अब ............

Roshi: माँ के भक्त

Roshi: माँ के भक्त: माँ के भक्त बने वो घंटो मंदिर में कीर्तन किया करते हैं घर आकर पत्नी और बेटी पर सितम धाय करते हैं  नवरात्री में सिर्फ फलाहार  का सेवन किया क...

माँ के भक्त

माँ के भक्त बने वो घंटो मंदिर में कीर्तन किया करते हैं
घर आकर पत्नी और बेटी पर सितम धाय करते हैं 
नवरात्री में सिर्फ फलाहार  का सेवन किया करते हैं 
बेटी और माँ भूखे पेट ही सो जाया करते हैं 
दक्षिणा में मिले रूपए मदिरालय में जाया करते हैं 
माँ -बेटी फूटी कौड़ी को भी तरस जाया करते हैं 
रखते तो माँ के व्रत हैं पर हर स्त्री पर कामुक नज़र रखते हैं 
माँ -बेटी को दरिंदगी की हदों से भी बदतर रखते हैं 
मंदिर में माँ की महिमा का बखान करते हैं 
घर पर लात घूंसे से ही बात आरम्भ करते हैं 
इतना बदसूरत विरोधाभास  हम अक्सर अपने आसपास देखा करते हैं