WATCH

गुरुवार, 20 दिसंबर 2012

प्यारी बिटिया

सावन की बद्री में
झूलो की बद्री में
तुम याद बहुत आओगी
                    बारिश की फुहारों में
                     तृप्त करती  बौछरो में
                     तुम याद बहुत आओगी
मेहंदी के बूंदों में
रंग बिरंगे सूटों में
तुम याद बहुत आओगी
                    रंग बिरंगी चुनर में
                    लहंगे की घुमर में        
                    याद बहुत आओगी
मेघो की घन घन में
पायल की छन छन में
तुम याद बहुत आओगी
                            चमकती बिंदिया से
                             छनकति पायलिया में
                            तुम याद बहुत आओगी
                                              

7 टिप्‍पणियां:

राकेश कौशिक ने कहा…

बहुत सुंदर

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्यारी कविता।

vandana ने कहा…

कोमल भावों से सजी प्यारी कविता

Devdutta Prasoon ने कहा…

'ममता के आँचल' में पलती है'मानवता' निश्चय |
छोटे बच्चों में होता 'सच्चे प्रेम का संचय ||

Devdutta Prasoon ने कहा…

'ममता के आँचल' में पलती है'मानवता' निश्चय |
छोटे बच्चों में होता 'सच्चे प्रेम का संचय ||

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…





♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
♥♥नव वर्ष मंगलमय हो !♥♥
♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥


सावन की बदरी में
झूलों की बदरी में
तुम याद बहुत आओगी
प्यारी बिटिया


सुंदर गीत है ...
आदरणीया रोशी जी !



नव वर्ष के लिए शुभकामनाएं !
साथ ही
हार्दिक मंगलकामनाएं …
लोहड़ी एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर !

राजेन्द्र स्वर्णकार
✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿

tbsingh ने कहा…

bahut sunder.