WATCH

मंगलवार, 31 जुलाई 2012

सावन की मस्ती

कब आया सावन ,कब बीता सावन जरा भी ना हुआ इसका गुमां
कहीं भी ना दिखी नवयौवना बढाती झूले की पींगे ,गाती कजरी बनती अद्भुत समां 
बरसते ,लरजते कारे -कारे बदरा भी जैसे भुला ही बैठे मदमस्त आसमां 
दीखे ना कोई प्रेमी युगल बतियाते ,भीगते इस मधुर सावन में 
सब कुछ हो गयी बिसरी बातें ,सावन रह गया कवियौं की कल्पना में 
हरियाला सावन था सिमट गया बस कुछ पन्नो में और रह गया था अतीत की कथाओं में 
अब न सुनाई पड़ती कजरी ,ना सावन के गीत ,ना सुनती पपीहे की आर्तनाद 
क्यूंकि अब हमने ना बचाए पेड़ -पौधे ,ना बाग़, ना बची वो हरितमा 
बना दिया है कंक्रीट का जंगल चहुँ ओर  व्यथित और परेशा नर -नारी  
ना दिखते छप -छप करते बालक ना सावन का आनंद लेते नर -नारी 

बुधवार, 25 जुलाई 2012

Roshi: आइना

Roshi: आइना: कितने झूठ ,कितने फरेब  कोई कब तक कर सकता है ? शायद उम्र भर ......और अब उसको भी लगने लगा है  की शायद वो है ही गुनेह्गर इन सब हालातों की व...

आइना

कितने झूठ ,कितने फरेब  कोई कब तक कर सकता है ?
शायद उम्र भर ......और अब उसको भी लगने लगा है 
की शायद वो है ही गुनेह्गर इन सब हालातों की वो है 
मुजरिम ,या शायद वक़्त खेल रहा है कोई खेल उसके साथ 
पर जब कोई बात बार -बार दोहराइ जाती है लगातार 
तब पत्थर पर भी पड़ जाती है दरार ,.........
स्याह को सफ़ेद और सफ़ेद को स्याह तो दिखा ही देती है यह दुनिया 
जब राम को दिखाया दुनिया ने आइना सीता के दुश्चरित का 
तो वो भी ना देख पाए सीता के सतीत्व को ,उसके प्रताप को 
कुब तक ? आखिर कब तक चलता रहेगा यह अत्याचार ?????????

























































































सोमवार, 23 जुलाई 2012

Roshi: दर्दे- दिल

Roshi: दर्दे- दिल: भीतर का दावानल है ,बांध तोड़ने को व्याकुल पर बाह्य जगत का यह असहज व्योम रोकता है हर पल  क्यूंकि सहेजने में है वो अक्षम उस निर्लज्ज लावे...

मेरे जिगर के टुकड़े

बच्चे कितनी जल्दी बड़े हो जाते हैं यह आज समझ आया
जब हमारे बच्चे ने हमको नेतिकता का पाठ पड़ाया 
वो सारी बातें जो हम थे रहे सिखाते उसको जिन्दगी भर 
एक पल में ही उसने उनको अमल में लाकर कर दिखाया 
फख्र है हमको तुम परअब जाकर महसूस हुआ बच्चों  
हमने यूँ ही नहीं अपना जीवन व्यर्थ है गंवाया 
  

रविवार, 22 जुलाई 2012

तीज का मनोहारी उत्सव ,

तीज का मनोहारी उत्सव ,भर देता है हर युवती के मन में कुछ अनूठी उमंग
साजन के प्यार में खिल उठता है उसका अंग और प्रत्यंग 
 बरसता सावन जैसे छेड़ देता है काया में उसकी सरस मृदंग 
सावन के झूले बड़ा देते हैं ह्रदय की उठती गिरती सांसो की सरगम 
यह सतरंगी त्यौहार है ही हमारे देश की अद्भुत रीति -रिवाजों की शान 
अल्हड ,बूढी और जवान सभी मनाएं इसको भिन्न -भिन्न रूपों में सजकर 
धानी लहरिया ,की ओढ़ चुनर सजे गोरी पहन हाथ भर भर चूड़ी और पाँव सजे महावर 

सोमवार, 9 जुलाई 2012

Roshi: बदलती वयार

Roshi: बदलती वयार: बिसरा दिया है मेघों ने भी सावन में बरसना  सावन के झूले भी अमुआ की डार पर ना दिखते हैं अब  बच्चियो की मस्ती ,मेहँदी के पत्तों पर आपसी खटप...

बदलती वयार

बिसरा दिया है मेघों ने भी सावन में बरसना
सावन के झूले भी अमुआ की डार पर ना दिखते हैं अब 
बच्चियो की मस्ती ,मेहँदी के पत्तों पर आपसी खटपट 
सब हो गयी हैं शायद गुजरे ज़माने की बातें  अब 
ना कानों में पड़ती है किसी भी गलियारे से चूडियो की खनखनाहट 
वो मेहँदी से रची हथेलियाँ अब ना दिखती हैं गावं ,कस्बो में 
शायद बढता स्कुल ,आफिस का दबाब दबा रहा है पुरानी परम्पराएं 
सुहागिनों का नैहर भी छूट रहा है त्यौहार पर जाने से 
परंपरा अनुसार तीज पर बाबुल घर लाये और भाई राखी बंधवा कर ससुराल पहुचाये 
 बदल गए हैं सब मायने वक़्त ,सहूलियत के अनुसार त्यौहार मनाने के 
अब कौनसा नया परिवेश बदल देगा सारे के सारे ख़ुशियों के पैमाने 

रविवार, 8 जुलाई 2012

वैदेही की व्यथा

आज दिव्या शुक्ल जी का लेख देखा उसी लेख पर वैदेही के लिए कुछ भाव .............
 वैदेही का तो हर युग मैं जनम ही हुआ है नारी जीवन का संताप भोगने वास्ते 
कभी जन्मी वो जनकसुता बनकर और पाए घोर कष्ट भार्या राम की बनकर 
जन्मी थी वो राजकुल में और व्याही भी गयी रघुकुल में सहचरी वो राम की बनकर 
पांचाली भी जन्मी थी राजकुल में और पाया था अर्जुन सा राजकुमार स्वयंवर में उसने 
पर वह री किस्मत ? विधि की लेखनी ने उल्टा दिया सारा का सारा किस्मत का लेखा -जोखा 
व्याही एक पति को ,और भोग्या बनी पांच पतियौं कीकुदरत का खेल निराला 
कितने ही किस्से ,कहानी भरी पड़ी है इतिहास में हमारे हर युग की वैदेही की 
रूप अनेकों पर वैदेही तो हर युग ,काल में रही है सिर्फ भोग्या ,शापित और अबला 
जब ,जैसे,जिस भी रूप में पाया है दारूण कस्ट उसने सदेव वैदेही रूप  में जनम्कर 

शनिवार, 7 जुलाई 2012

जिन्दगी की अजब कहानी

किस्मत से बढकर कुछ नहीं है मिलता देख लिया है जिन्दगी की आपा -धापी में
सब कुछ था अजमाया हमने बस समझ ये ही आया इस जिन्दगी की दौड़ा -भागी में 
सारी अक्ल ,सारी होशयारी बस रह जाती है धरी की धरी इस जिंदगानी में 
बड़े से बड़े बन्दों को देखा है मिलते खाक और मिटटी में इसी जिन्दगी में 
जो  लिखा कर आये है तकदीर अपनी वो ही पाते हैं सब सुख जिन्दगी में 
अक्सर देखा है बहुत से कर्मयोगी कर्म करते है पूरा इस जिंदगी में 
पर कुछ भी ना कर पाते हैं हासिल सारी की सारी जिंदगी में 
इस को भाग्य का लिखा कहा जाये या कहें किस्मत की बुलंदी 
बिना कुछ करे भी वो सब कुछ पा जाते हैं जिन्दगी में 
  

मंगलवार, 3 जुलाई 2012

Roshi: जीवन

Roshi: जीवन: जिन्दगी का पहिया इतनी तेज़ी से रहा था भाग  हम सोच रहे थे कि हमने तो इसको बाँध रखा है मुटठी में  पर वो तो खिसक रहा था मुट्ठी में बंद रेत ...

जीवन

जिन्दगी का पहिया इतनी तेज़ी से रहा था भाग
हम सोच रहे थे कि हमने तो इसको बाँध रखा है मुटठी में 
पर वो तो खिसक रहा था मुट्ठी में बंद रेत की मानिद 
कब हो गया हाथ खाली हमको पता ही न चला 
और समेट भी ना सके एक भी कण उस रेत का 
जो समय जाता है गुजर लाख चाहो तो भी न पा सकोगे ऊम्र भर 
क्योँ नहीं समझ पाया मानुस वक़्त रहते यह गणित
बस फिर बटोरता रहता है रेत के टुकडो को जीवन भर 

सोमवार, 2 जुलाई 2012

तूफा और साहिल

 कुछ तूफा ,बेचैन हवाएं रुख ही मोड़ देते है साहिल का
जो कश्ती थी बह रही ख़ामोशी से दिशा ही बदल देते हैं 
माझी जो समझा था बस अब सामने ही है बस किनारा 
एक पल मैं ही बदल जाती है उसकी और नैया की तकदीर 
कब और किस किनारे लगे यह ही उसकी तकदीर