WATCH

शनिवार, 21 जनवरी 2012

त्रासदी


सुबह पेपर में पड़ाएक युवक ने की आत्महत्या
दो दिन से था पेट खाली पोस्त्मर्तम रिपोर्ट ने यह बताया
गरीबी का था आलम की पूरा परिवार समां जाता एक गुदरी में
न सर पर था छप्पर ,न पेट में भोजन जीवन की मार्मिक त्रासदी मन को न भाई
हम बातें करते हैं २१वी सदी की ,चाँद पर जाने की सबने है जुगत भिडाई
पर वह रे मानव तुजसे तो यह इश्वर प्रदत्त धरा न सम्हाल पाया
जितना दिया तुझको उस विधाता ने पहले उसको तो तू सहेज
सर पर छेत,पेट में अन्न ,और थोडा सा वस्त्र इतना सा भी तू न सबको दे पाया

12 टिप्‍पणियां:

sushila ने कहा…

सचमुच त्रासदी ही है। कहीं कुत्ते बिस्कुट खाते हैं और कहीं भूखे बच्चे कुलबुलाते हैं/आत्महत्या करते हैं।
मार्मिक !

vidya ने कहा…

मार्मिक...
कटु सत्य हैं ये जीवन के..जो आपने कविता में पिरोये..
सादर.

sangita ने कहा…

क्या कहूं सिवा इसके की में शर्मिंदा हूँ |

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

यह सब सुनकर दिल दहल जाता है..

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

bahut hi marmi prasang ke sath bhavpoorn chintan ....badhai Roshi ji.

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत मार्मिक...सत्य को उजागर करती सुन्दर प्रस्तुति..

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

trsdi ka shbdon se rekhankan gazab ka laga....badhai roshi ji.

प्रेम सरोवर ने कहा…

प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

avanti singh ने कहा…

dil me ek tees si uthi ye panktiyaan padh kar,kisi ko itna mila ke smbhale nahi smbhlta aur koi gribi ki wajah se mar jata hai,pure smaaz ke liye shrm ki ghtna hai ye

S.N SHUKLA ने कहा…

सार्थक और सामयिक पोस्ट, आभार.

kshama ने कहा…

ये वाकई त्रासदी है!

vandana ने कहा…

पर वाह रे मानव तू तो यह ईश्वर प्रदत्त धरा न सम्हाल पाया....
सच कहा आपने जहाँ धरती पर हम मिल बांट कर खा भी नहीं सकते भला चाँद पर क्या करेंगे

सामयिक पोस्ट