WATCH

शनिवार, 30 अप्रैल 2011

इंसानी रंग

देखे है हमने इस जहाँ में इंसानी फितरत के ढेरो रंग 
हर लम्हा इन्सान की फितरत के बदलते ढंग 
काश हम देख पाते झांककर दिल के अंदर 
क्यूंकि बहां तो दिखते ढेरो उल्हाने और बर्बाद ज़माने के रंग 
जीना हो जाता मुहाल और सामाजिक ढांचा हो जाता भंग 
भाई- भाई न रहता, पति- पत्नी और बच्चे 
प्रेम बत्सल्या, दोस्ती के दिखते अदभुत रंग 
अच्छा ही हुआ जो इस दिल को ढक दिया इश्वेर ने 
बरना तो खुद इश्वेर ही न संभाल पाता 
इंसानी फितरत के बदलते हर पल नए रंग ढंग


12 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बड़े विचित्र हैं, इन्सानी रंग।

शिखा कौशिक ने कहा…

बहुत सुन्दर बधाई

रजनीश तिवारी ने कहा…

bahut achchhi rachna

यशवन्त माथुर ने कहा…

बहुत सही लिखा आपने.

सादर

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

अच्छा ही हुआ जो इस दिल को ढक दिया इश्वेर ने
बरना तो खुद इश्वेर ही न संभाल पाता
इंसानी फितरत के बदलते हर पल नए रंग ढंग

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

Kailash C Sharma ने कहा…

अच्छा ही हुआ जो इस दिल को ढक दिया इश्वेर ने
बरना तो खुद इश्वेर ही न संभाल पाता
इंसानी फितरत के बदलते हर पल नए रंग ढंग....

बहुत सच कहा है..सुन्दर रचना

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!
--
पिछले कई दिनों से कहीं कमेंट भी नहीं कर पाया क्योंकि 3 दिन तो दिल्ली ही खा गई हमारे ब्लॉगिंग के!

kshama ने कहा…

अच्छा ही हुआ जो इस दिल को ढक दिया इश्वेर ने
बरना तो खुद इश्वेर ही न संभाल पाता
इंसानी फितरत के बदलते हर पल नए रंग ढंग
Bahut anoothee rachana!

सतीश सक्सेना ने कहा…

शुभकामनायें आपको !

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सही लिखा आपने|

Kunwar Kusumesh ने कहा…

अच्छा ही हुआ जो इस दिल को ढक दिया इश्वेर ने
बरना तो खुद इश्वेर ही न संभाल पाता
इंसानी फितरत के बदलते हर पल नए रंग ढंग

बहुत सही लिखा.

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.
श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.