WATCH

रविवार, 24 जुलाई 2011

बिकता है इन्सान

आज के युग में सब कुछ बिकता है इंसा खरीदता है 
अस्मत बिकती है आबरू बिकती है और बिकता है इन्सान 
कही लड़की बिकती , कहीं बच्चा बिकता खरीदता है सारा जहान

रिश्ते बिकते, परम्पराये बिकती, बिकता है मान और सम्मान 
पति- पत्नी , भाई-बहन , चाचा- ताऊ, साली- जीजा 
सारे रिश्ते है बिकते, जैसे बिकता है अख़बार 

माँ -बच्चा, बेटी- पिता, सरीखे रिश्ते भी हैं बिकते 
कितनी गर्त में जा रहे हैं हम, इसको क्यूँ न समझ सकते 
जिन्दगी की आपाधापी में प्यार संस्कार सब हैं बेकार 

नेता, अफसर, समाजसेवी और नर- नारी 
गर न चेते तो क्या दे पाएंगे एक सुंदर संसार ?
देखो जरा निगाहों से कैसे बिकता है इन्सान ?

दरकते रिश्ते गिरता सामाजिक ढांचा, क्या अभी न इसको रोक सकते 
क्या सही रास्ता अपनाना इतना कठिन है आज क्यूँ बिकता है इन्सान ?

4 टिप्‍पणियां:

neelima garg ने कहा…

very touching....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

गहरी रचना।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आज के परिवेश को कहती संवेदनशील रचना

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

माँ -बच्चा, बेटी- पिता, सरीखे रिश्ते भी हैं बिकते
कितनी गर्त में जा रहे हैं हम,
इसको क्यूँ न समझ सकते
जिन्दगी की आपाधापी में प्यार संस्कार सब हैं बेकार

शब्द-शब्द संवेदना भरा है...